20+ Hindi Moral Stories

Hindi Moral Stories

हेल्लो बच्चो स्वागत है आपका आज में आपके लिए Moral Very Short Stories In Hindi लेकर आया हूँ जिन को पढ़ कर आपको मजा भी आये गा साथ में इस दुनियाँ को समझने में आसानी होगी.

बच्चो को शिक्षा देने का एक बहुत ही अच्छा साधन है कहानी सुना कर समझाना इसी लिए हम यहाँ पर आपके लिए बच्चों की मनोरंजक कहानियाँ लेकर आये है. जिन को पढ़ कर बच्चो को सिख भी मिले गी और मनोरंजन भी होगा.

तो फिर चलिये शरु करते है और पढ़ते है हिंदी नैतिक कहानियाँ.

1. झूठा तोता कहानी

झूठा तोता कहानी

एक जंगल में बक – बक नाम का तोता रहता था, उसे जूठ बोलने का बहुत सोक था, वह हमेसा बड़ी – बड़ी डींगे मरता रहता था.

एक दिन चिड़िया तोते के पास आती है.

चिड़िया : बक – बक आज तुमने क्या खाया.
तोता : में तो आज राज महल में गया था वहा पर मेने बहुत सारे फल खाए साथ में राजा ने मुझे Gift भी दिए.
फिर अचानक से उन के पास कोवा आ जाता है और वो कहता है बक – बक तुम जूठ मत बोलो मेने तुमे सुबह मिर्च खाते देखा था. बक – बक तुम चुप रहो.

ऐसे ही बक – बक तोता सभी को जूठ बोलता रहता था.

एक दिन बक – बक तोते के पास एक कबूतर आया बक – बक ने कबूतर की बात न सुनते हुवे अपनी ही बातो में लगा रहा.

फिर अचानक से शेर आ जाता है और कबूतर से बोला तुम वापिस आ जाव तोते के पास तो बहुत धन है इसे महल की जरुरत नहीं है.

तोता कहता है कबूतर तुम क्या कह रहे थे में तुमे यहाँ कहने आया था की तुमे शेर राजा ने राज महल में रहने को बुलाया है लेकिन तुमने मेरी सुनी ही नहीं.

तोता अरे मेरे पास कुच्छ नहीं है मुझे राज महल ले चलो लेकिन अब तो शेर ने मना कर दिया है.

क्या सिख मिली : –

इस कहानी से हमे सिख मिलती है की –

  • हमे कभी भी जूठ नहीं बोलना चाइये.
  • हमे बड़ा चड़ा का नहीं बोलना चाइये.
  • पहले अगले की बात सुने फिर अपनी कहे.

2. सिंह और चुहाँ

सिंह और चुहाँ

एक दिन जंगल में शेर शो रहा था. अचानक से एक चुहाँ आकर शेर के ऊपर कूदने लगा शेर की नींद भंग हो गई.

घुसे में शेर चुहाँ को मरने के लिए दोडा. तो चुहाँ हाथ जोड़ कर रोने लगा और कहने लगा मुझे माफ़ कर दो में आगे से ये गलती कभी नहीं करू गा.

शेर ने चुहाँ पर दया आ गई उसे छोड़ दिया.

एक दिन जंगल में शिकारी आया और शेर को जाल में कद कर लिया शेर बहुत दुखी हो गया जोर – जोर से चिलाने लगा.

कोई भी शेर की मदद के लिए नहीं आया. लेकिन चुहाँ आया और जाल को अपने दांतों से काट कर शेर को आजाद कर दिया.

शेर ने चुहाँ को धन्यवाद कहाँ और वो दोनों दोस्त बन गए.

क्या सिख मिली : –

इस कहानी से हमे सिख मिलती है की –

  • हमे कभी भी अपने से कमजोर पर हाथ नहीं उठाना चाइये क्या पता कब कोन काम आ जाये.
  • हमे हमेसा अच्छे दोस्त बनाने चाइये.

3. लोमड़ी और कौआ

लोमड़ी और कौआ

एक बार एक कौआ बहुत बुखा था वो खाने की जलाश में निकल पड़ा उस ने एक बच्चे के हाथ में रोटी देखी.

उसे छीन कर उड़ गया और एक पेड़ पर जा बेठा कौआ रोटी खाने की सोच ही रहा था अचानक से लोमड़ी आ गई.

कौआ से बोली तुम गाना बड़ा अच्छा गाते हो गा के तो दिखाव कौआ ने इतनी तारीफ कभी नहीं सुनी थी तो वो रोटी को अपने पैर निचे दबा कर गाने लगा.

लोमड़ी की ये चाल तो फ़ैल हो गई उस ने सोचा था कौआ गाना गए गा और उस की रोटी मुँह से निचे गीर जाये गी में उसे खा लूँगी.

लोमड़ी फिर बोली कौआ मामा तुम डांस भी बहुत अच्छा करते हो जरा नाच के दिखाव कौआ तो बहुत ज्यादा खुश हो गया और नाचने लगा.

और उस के पाँव से रोटी छुट कर निचे गी गई और लोमड़ी ने तुरंत खा ली. कौआ रोने लगा.

क्या सिख मिली : –

इस कहानी से हमे सिख मिलती है की –

  • हमे कभी भी अपनी जूठी तारीफ में नहीं फसना चाइये.
  • हर बात को अच्छे से समझ कर ही काम करना चाइये.

4. प्यासा कौआ

प्यासा कौआ

गर्मी का टाइम था और एक कौआ बहुत ज्यादा प्यासा था. परन्तु उसे कही पर भी पानी न मिला वो इदर – उदर भटकने लगा.

बहुत देर बाद उसे एक पानी का मटका दिखा कौआ बहुत खुश हुआ पानी पिने के लिए दोडा लेकिन पानी बहुत ज्यादा निचे था जिस कारण वो पानी नहीं पी सका.

कौआ परेशान हो गया और वो सोचने लगा कैसे में इस पानी को पी सकता हूँ. पास में ही कुच्छ पत्थर पड़े थे वो उन्हें उठा – उठा कर पानी में डालने लगा.

पत्थर गिरने से पानी ऊपर आ गया और कौआ पानी पी कर उड़ गया.

क्या सिख मिली : –

इस कहानी से हमे सिख मिलती है की –

  • हमे कभी भी हार नहीं मनानी चाइये.
  • हमे पूरी महनत करनी चाइये.

5. मेढकों की लड़ाई

मेढकों की लड़ाई

एक सांप था जोकि अब बुढा हो चला था अब उस से शिकार के पीछे नहीं दोडा जाता था. सांप ने सोचा क्यों न ऐसा हो जाये की शिकार अपने आप मेरे पास आ जाये और उसे में खा लू.

तो वो एक तलाब के पास गया जहाँ पर बहुत सारे मेंडक रहते थे. सांप वहा जाकर उदास बेठ गया एसा देख कर एक मेंडक ने सांप से कहाँ तुम इतने उदास क्यों हो.

तुम शिकार क्यों नहीं कर रहे. तो सांप बोला कल मेने एक बच्चे को कांट लिया और वो मर गया लेकिन उस बच्चे की मान ने मुझे श्राप दे दिया की तुम मेंढको की सेवा करो गे जो वो देंगे वही खाव गे तो में आप की सेवा करने के लिए आया हूँ.

ये बात मेंढको ने अपने मेंढक रजा को बताई तो तो वो खुश हो गया.

सांप की बातो पर मेंढको के राजा को भी यकीं हो गया और मेंडक रजा के साथ सभी मेंडक सांप के ऊपर सवार हो गए और घुमने निकल गये.

थोड़ी देर बाद सांप धीरे – धीरे चलने लगा मेंडक रजा ने कहाँ मित्र तुम इतने धीरे से क्यों चल रहे है सांप ने कहाँ में बहुत थक गया हूँ और भूखा भी हूँ इसी लिए नहीं चल पा रहा.

तो मेंडक रजा ने कहा तो सबसे पीछे बेठा है उस मेंडक को तुम खा लो सांप ने तुरंत मेंडक को खा लिया.

एसा कर – कर सांप सभी मेंढको को खा गया आखिर में मेंडक रजा को भी सांप खा गया.

क्या सिख मिली : –

इस कहानी से हमे सिख मिलती है की –

  • हमे कभी भी किसी पर आँख मूंद कर विश्वाश नहीं करना चाइये.

पहलियाँ भी पढ़े जिस से आपका दिमाख और भी तेज होगा पढने के लिए निचे दिए लिंक पर क्लिक करे.


निष्कर्ष

हमे उम्मीद है आपको ये Moral Stories in Hindi बहुत पसंद आई है अगर आप चाहते है यहाँ हम और भी Short Story जोड़े तो कमेंट कर के जरुर बताये. अपने दोस्तों के साथ भी जरुर शेयर करे धन्यवाद!

Leave a Comment

error: Content is protected !!